रजे! नोँ थांनानै था 0.1, by Ronjoy Brahma Subscribe to rss feed for Ronjoy Brahma

बार थोबसे बाराखै।

बोथोरा जेरैबो
सोरगिदिँ गोमजोर।

लामा सामा सासेबो
थांलाय फैलाय गैया।

गोसा दुंनाय थिँ थिँ
सान्दुंजोँ लामाया
स्रां जादोँ।

लामानि गेडआ गोमजोर
गसंनानै दं।

दरजा मोननैजोँ आखायजोँ
आखाय हमथा लायनानै
न'जोँ थांनाय लामाखौ
फांथेदोँ।

गोजौआव सैना दोन्नाय
खिलाखौ निजोराया गेडखौ
खेँनानै लासै लासै
हाबलांबाय।

रावबो गैया सिरि। बियो
अरन थाग्रा रुम फारसे
लासै लासै थांबाय।

अरन उन्दुग्रा रुमा
फांथेनाय।

साजोँ थाला मारियाखै।

जानो हागौ अरना सिङावनो
उन्दुना दं।

बेरायनाय हुदाया
बांद्राय गैखाया बेहा।

दरजा फांथेनानै सिङाव
बिजाब फरायदोँ एबा
उन्दुनानै दं बेयो जानो
हागौ सानबाय निजोराया।

बेबादिनो खाथिनाव
दावगा लांनानै बियो
दरजाखौ थक थक बुबाय।

दान्दिसे उनाव अरना
उन्दुनायनिफ्राय सिरि
मोनना मुब्रुं मुथुं
सिखारबाय।

सानाव सिगां
नुगुलायनाय उन्दुनाय
हुदाया बावैसो
समनिफ्राय जादोँ।

दाबो सम सम निनाखौनो
सिमाङाव नुबाय थायो
बेयो।

निनाखौ दाबो बावनो
हायाखै बियो।

अरना सिखारना दरजाखौ
खेँना होबाय लोगो लोगो
निजोराया खथायाव थ्रोब
हाबबाय।

थाखोमानाय गैयै
मोखांनि सोरांजोँ बियो
मिनिबाय।

बिसिनायाव दामब्ले
जिरायबाय बियो।

अरना बिनि बारसन
फैनायखौ सोमो
नांदोँमोन।

बियो नाथाय जेबो
रावखौनो दिहुननो
हायाखैमोन।

निजोरानि मोखां फारसे
गल' सोमोनां नायदोँमोन
बियो।

 निजोराया बुङो-

"अरन! आं नोँखौ मोजां
मोनो।

नाथाय नोँ मानो फिन्नाय
होआ? थारैनो नोँ आंखौ
मोजां मोना?"

दान्दिसे सिरि थानानै
आरोबाव बियो बुंबावो-

"आं नोँखौ मोजां मोनो।

बेसेबांबा सिरि सिरि
नाथाय नोँ मा सानो?
नोँखि आंखौ मोजां मोना?

नोँ आंखौ मोजां मोननो
हायाना?

नोँ आंनि जिउ रजे! नोँनो
आंनि गासैबो।

आदा! बुं नोँनि रावजोँ-
आं सोरनि थाखाय?"

"निजोरा नोँनि बेबादि
हरखाब फैनायखौ सोमो
नांनानै आंहा राव
गोमादोँ।

आंनि फिन बुंनांगौ रावआ
बहाबा बिरलांदोँ।

मिथिगौना निजोरा?

नोँबादिनो सानसेखालि
निनाया आंनि सेराव
फैदोँमोन।" अरना
बुंबाय।

गाबहां गाबहां दोमैलु
मोखांजोँ निजोराया
बुङो-

"निनानि सोमोन्दै आं
मोजाङैनो मिथिगौ आदा।

नाथाय बेयोथ' दिनै
थांनानै बे संसाराव
गैलिया।

नोँ गोसोखौ थैनानै
थांनाय निनानि मुङाव
आरोबाव बावनो नांलिया
रजे!

नोँ बेखौ बावदो।

निना जानानै आंनो नोँनि
थाखाय निजोरा जाना अराय
बोहैबाय थागोन।

आं नोँखौ अराय गोजोन
होगोन रजे! बुंना नोँ
आंखौ.....!"
Posted: 2016-02-05 10:49:34 UTC

This poem has no votes yet. To vote, you must be logged in.
To leave comments, you must be logged in.
Tweet