रजे! नोँ थांनानै था 1.7, by Ronjoy Brahma Subscribe to rss feed for Ronjoy Brahma

बेबादिनो गोर गोर
खारबोनानै बडलेण्ड
बासआ मुसुलफुराव दोम
लाखिफैनायसै।

अरना थेनथौगुलायबोदोँ
लामा लामा मटर
सायावनो।

सम सम निजोराया गावनो
अनथाव बाथाव बिमाबादि
बिलिरबोदोँमोन।

खेबसेबा रावबो
नुस्लाबै "आंनि जिउनि
रजे" होननानै गोसो
सिङाव साननानै अरननि
खावलायाव सब खुदुमदोँ।

खेबसेबा मोजाङैनो
गोबाख्रबबोदोँमोन।

नाथाय अरना बेखौ जेबो
उदिस मोनाखिसै।

जेब्ला बासआ
मुसुलफुरावसो खारै
खारै जोबथा थाद'फैबाय
अब्लासो मोदोम
बुज्रावना
नारलायनानैसो
निजोरानो फोजाबाय।

जोबोद मेंदोँ अरना
लोरलां लोरथां।

जौ फेनायबादि मानिबा
थाखाय बियो थेनथयै
थेनथयैनो
फेग्लिबोबाय।

अरननि मेगना गेवा गेवा
जादोँ मुब्रुं मुथुं।

गावनि जलंगायाव दै
बथलसे दंमोन लोङै
लोङैनो मटराव एसेल'
आग्लायबोदोँ।

बेजोँनो गुरैयै अरननि
मोखांखौ बिलिरना होबाय
निजोराया गुसुनो।

अरननि बुथेथे मोखांआ
गेवस्रासिनबाय।

गावनि आगदा आखायजोँ
अरननि आगसि आखायखौ
खिथेबनानै गावसिनि
न'फारसे लानानै थांबाय
निजोराया।

निजोरामोननि न'मोनहैनो
मुसुलफुर मटर
थाथ'ग्रानिफ्राय से
किल' मिटार गोजान जायो।

लासै लासै थाबायलांबाय
बिसोर सानैजोँ अब्ला
साना हाबहां हाबहां
जाबायमोन।

दाउसिन दाउलामोन थस्ला
बेग्रां बेग्रां आदार
एम्फौ जानानै गाव गावनि
न'फारसे अख्रांजोँ
खायसोयै जै होयै होयै
बिरलांदोँसै।

लामानि बिफां
बेन्दोँफोरा सानसे
सान्दुंआव थायै थायै
मेँनाय मोन्नायजोँ
हरखौ बराय बराय
मेसेबहांदोँसै।

लासै लासै
थाबायलांनायजोँनो
निजोरामोना बिसोर साना
फैसालियाव नांथा हैना
मोखांजोँ नायहरनाय
समसिमावनो सहैदोँ।

निजोरामोना न' मोनहैबा
निजोरा बिमा लाइमुथिया
न'खौ थाला मारिगासिनो
दं।

बेबादि समाव निजोराया
बिमाखौ गुजुस्रेमना
बुंनायसै-

"आयै! बबाव थांनो
ओँखारदोँ? न'खौलाय मानो
थाला मारिखो?"

रावखौ हमस्लाबनो हायै
आरो हाखु दाखुआव बिमाया
बुंदोँ नायहरनानै-

"ए, निजोरासोलाय माथो,
आलासिबो दंलायो माथो।

हाबा दं आय बैहाय
नोमथैनि"

"एफा हाखु-दाखुथार आरो?"

"औ लेँहरगासिनो दंथारो
नोमादै समबारिया।

थाथ' रावबो थानाय
नंलिया न'आव, आंबो
गाबोनसो फैगोन।

नोमफाया
मैयानिफ्रायनो दंहैयो,
दा लाइस्रिखौ लेँहरदो
हराव।"

"आयआबो गाबोनसो फैनोसै
बिदिब्ला?"

"औ थाथ'दो। थाथ'दो फिसा,
आयंना आदै जायो।"

हाखु-दाखु अरनखौ
नायदेरनानै मिनिसुलु
बुंदोँ।

आखायनि दर साबिफोरखौ
निजोरानि आखायाव
होनानै दोँ दोँ दखना
जोकथोँ लायनाय
खारलांबाय लाइमुथिया।

एसेयावनो "ओइ आब' फैद"
होननाय रोमै रोमै
रिँखांबोबावबाय।

Posted: 2016-03-30 12:41:43 UTC

This poem has no votes yet. To vote, you must be logged in.
To leave comments, you must be logged in.
Tweet